Sehat Par Kaisa Prabhaw Daalte Hai Ye Aadhunik Gadzets

आज हम हर तरफ किसी ना कैसी गजेट्स से हमेश घिरे रहते है और हो भी क्यो ना। क्युकी इन्ही गजेट्स के कारन आज हमारा हर काम सुविधाजनक या आसन हो गया है। ये हमारे शरीर के ही एक अंग जैसे बन गए है और हम किसी न किसी रूप में इनपे निर्भर हो गए है।

अपनी बात करू तो में भी इन्ही गॅडजेट्स के हेल्प से आपको ये बता पा रहा हु . क्या आपने कभी सोचा है की आप जो घंटो इन गॅडजेट्स के साथ समय बिताते है लेकिन ये आपके शरीर में क्या प्रभाव डालते है . सायद आपका जवाब यही होगा “कभी नहीं ”.

Xiaomi Redmi S2

तो दोस्तों मै इस पोस्ट में आपको यही बताने जा रहा हु की इन गॅडजेट्स का हमारे सरीर में क्या और कैसा प्रभाव पड़ता है . “excess of everything is bad for health ” मतलब किसी भी चीज़ की अधिकता हमारे के लिए हानिकारक है . आप भी जानिए की ये गॅडजेट्स हमारे काम को आसान करने के साथ – साथ हमारे शरीर को भी किस प्रकार से हानि पहुंचते है . तो में ज्यादा समय न लेते हुए पॉइंट पे आता हु . निचे दी गई इन साड़ी जानकारियों को आप ध्यान पूर्वक पढ़ेंगे और फॉलो करेंगे तो सायद आप उनके हानिकारक प्रबह्व से बच सकते है क्योकि ये प्रभाव कभी कभी शरीर में अस्थाई रूप ले लेता है .

यह भी देखें

1.  Computer & Televison :- आजकल अधिकतर कंपनी और T.V. LCD or LED स्क्रीन वाले ही बनाते हैं और उनसे सबसे बड़ा प्रभाव हमारे आंखों पर पड़ता है।

ऐसा क्यों होता है यह जानने के लिए इस स्मार्टफोन का कैमरा ऑन करके स्क्रीन के सामने रखकर भी आप चेक कर सकते हैं ऐसे हम आप देखेंगे कि कैमरे के डिस्प्ले में कुछ झिलमिलाहट हो रही है जिसे हम नेकेड आंख से नहीं देख सकते हैं ऐसा स्क्रीन में बीच बीच में होते रहता है जिसे हमारी आंखों को बार-बार फोकस करना पड़ता है जो हानिकारक है .

Mi TV 4

2.  mobile & Tablet (Tab) :-यह ऐसी Gadzets है जिनसे केवल हमारी आंखें ही नहीं बल्कि कान , हाथ , कंधा और खासकर के मस्तिक भी प्रभावित होती है और सर दर्द के साथ भारीपन भी महसूस होता है खास करके यह हमारे यादाश्त यानी की मेमोरी पर ज्यादा प्रभाव पड़ता है , इनमें होने वाले Vibration और इन्हें निकलने वाले Rediation शरीर के (Reproductive system) को भी प्रभावित करता है और साथ ही साथ ह्रदय को भी नुकसान पहुंचाता है और कभी-कभी तो हार्ट अटैक का भी कारण बनता है आज इन्ही दो Gadzets को सबसे ज्यादा इस्तेमाल करते है और बच्चे से लेकर एक बूढ़ा आदमी तक सारे लोग इसका इस्तेमाल करते हैं एक survey के अनुसार ८५% लोग इन सब से किसी ना किसी बीमारी के शिकार हैं , बच्चे इनसे ज्यादा प्रभावित होते हैं। 

Motorola Moto E5 Plus

3.  Headphone :- Headphone एक ऐसी Gadzet है जिन्हें हम अधिकतर कहीं भी और कभी भी उपयोग करते रहते हैं  .

जैसे घर में , क्लास रूम में , बाथरूम में और खास करके सोते हुए भी कान में लगाकर बात करते रहते हैं या म्यूजिक सुनते रहते है , ड्राइविंग करते हुए , रोड पर चलते हुए , रेलवे ट्रैक पर चलते हुए , इनका इस्तेमाल करते रहते हैं।

इसी कारण हमें कभी ना कभी दुर्घटना का सामना करना पड़ सकता है। आजकल एक से एक बढ़कर एक आधुनिक हेडफोन मार्केट में उपलब्ध है कुछ हेडफोन वायरलेस ब्लूटूथ वाले भी हैं किसी भी तरह से इनका उपयोग कान के लिए ठीक नहीं है , यह ऐसा Gadzet है जो कान के पदों को बहुत तेजी से नुकसान पहुंचाते हैं और आप को बहरा कर सकते हैं।

अगर म्यूजिक सुनते समय आपके आसपास की आवाज आपको सुनाई ना दे तो समझ लीजिए कि यह हेडफोन आप कानो की लिए अच्छा नहीं है , यह आपके लिए हानिकारक है , और आपके कानों को नुकसान पहुंचा रहा है , तो इसीलिए अगर आप हेड फोन यूज करते हैं तो अच्छे कंपनी का यूज़ कर सकते हैं या फिर कुछ अच्छे ब्रांड के आप खरीद के यूज कर सकते हैं , लेकिन कोशिश कीजिए आप बिना हेडफोन यूज किए ही अपना काम आसानी से कर सकें ताकि आपके कानों को कम से कम नुकसान पहुंचे। 

मेरे अनुसार आजकल आपको यह देखने को मिल जाएगा कि हर कोई , हर जगह , कहीं पर भी , कोई ना कोई गैजेट का यूज कर रहा है या फिर चलते हुए , बस में ट्रेवल करते हुए , इत्यादि।

जगहों पर लेकिन कोई भी चीज की ज्यादा उपयोग हमारे लिए फायदेमंद नहीं होती है इसीलिए हमें जरूरत के अनुसार ही इनका इस्तेमाल करना चाहिए।

इनका इस्तेमाल एक नशा की तरह फैलती जा रही है खासकर के बच्चों के हाथों में आप एक स्मार्टफोन देख सकते हैं , बच्चे इसके आदी होते जा रहे हैं पहले के मुकाबले इसका यूजर्स में भी बहुत वृद्धि हुई है .

headphone

तो लास्ट में मै यही कहना चाहता हूं कि आप कोशिश कीजिए कि इसका यूज कम से कम कर सकें या फिर जरूरत के समय ही इस्तेमाल करें ना ही कोई टाइम पास के लिए।

अगर यह पढ़कर आपको अच्छा लगा हो या फिर फायदा हुआ हो तो अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें।

Notes:-

तो मुझे उम्मीद है आपको समझ आ गया होगा  कि  Sehat कैसे बचाये । अगर आपके कोई प्रश्न या सुझाव हैं, तो आप नीचे दिए गए Comments Box  में अपनी राय दे सकते हैं। ताकि हमें भी आपके विचारों से कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिले ।

और सोशल मीडिया पर  DeemTab को फॉलो करना न भूलें, और अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप वेबसाइट और YouTube चैनल पर जा सकते हैं।

technical dada

अगर आपको आर्टिकल पसंद आया और यह आपके लिए उपयोगी हुआ  – तो आप अपने दोस्तों के साथ शेयर करे ।

आज के लिए, अभी के लिए
अलविदा……।

Leave a Reply

Your email address will not be published.